हर्ष भरा गीत – चिराग पटेल २०१९ फेब्रुअरी २१

हर्ष भरा गीत – चिराग पटेल २०१९ फेब्रुअरी २१

हर्ष की वर्षा हुई
सृष्टि गीत नए गाने लगी |
नवपल्लवित पुष्पों से
नई सुगंध आने लगी |
सदियों से निद्रा में घिरी
अजंता के शिल्प से
स्वतंत्र हुई सुंदरी |
पुष्ट देहयष्टि में राग
नए भरने लगी |
अध् खुले होठों से
स्मित भरी भावनाएँ
जगने लगी |
काम भरे नयनों से
कर्णप्रिय गुंजन होने लगे |
शब्दों में बिखरे विश्व को
स्पर्श में भरने लगे
गीत नए गाने लगे |

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.